BREAKING : भारत का सैटेलाइट सर्जिकल स्ट्राइक मिशन शक्ति. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की भारत के अंतरिक्ष महाशक्ति बनने की घोषणा

anti satellite missile weapon, modi
anti satellite weapon, modi
anti satellite weapon india
  1.  भारत विश्व का चौथा स्पेस महाशक्तिमान बना
  2.  वैज्ञानिकों ने सिर्फ 3 मिनट में लो अर्थ ऑर्बिट में एक लाइव सैटलाइट को मार गिराया. 
  3. .सिर्फ 3 देशों को ये ताकत हासिल
  4.  3 मिनट में 300 किलोमीटर दूर टारगेट खत्म
  5. देश को सुरक्षा की गारंटी देने वाली खबर
  6. ऑपरेशन से किसी भी अंतरराष्ट्रीय संधि या समझौते का उल्लंघन नहीं
  7. डीआरडीओ को दी बधाई

रायपुर.(khbargali) भारतीय वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष 'मिशन शक्ति' अभियान के तहत anti satellite missile weapon के जरिए 300 किलोमीटर दूर लो अर्थ ऑर्बिट (एलइओ) सेटलाइट को मार गिराया है. यह एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था और तीन मिनट के भीतर इसे हासिल किया गया. मिशन शक्ति यह बहुत ही कठिन ऑपरेशन था जिसे हमने हासिल किया. हम इसके लिए अपने वैज्ञानिकों बधाई देते हैं. अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत ऐसा करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है. ये बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने. इस संदेश को टीवी, रेडियो और सोशल मीडिया के जरिए सुनपीएम मोदी ने देश को दी बधाई।

पीएम मोदी ने कहा, ”कुछ ही समय पूर्व भारत ने एक अभूपूर्व सिद्धि हासिल की है. भारत ने अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में दर्ज करा दिया. दुनिया के तीन देश अमरीका, रूस, चीन को ही यह उपलब्धि हासिल थी. अब इस पंक्ति में भारत भी शामिल हो गया.
 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि सिर्फ 3  मिनट में 'मिशन शक्ति' अभियान से 300 किलोमीटर दूर अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराया. ये था भारत का सैटेलाइट सर्जिकल स्ट्राइक. अब भारत अंतरिक्ष में घुसकर दुश्मनों को करारा जवाब दे सकता है. 
    पीएम ने कहा लो  मिशन शक्ति का इस्तेमाल सिर्फ  देशवासियों के हित में ही है न कि किसी देश के खिलाफ. हमारा मकसद सिर्फ शांति है. इस ऑपरेशन से किसी भी अंतरराष्ट्रीय संधि या समझौते का उल्लंघन नहीं हुआ है.  पीएम ने डीआरडीओ को बधाई देते हुए कहा कि  मिशन शक्ति बहुत कठिन ऑपरेशन था और सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात है. किसी भी अंतरराष्ट्रीय संधि को नहीं तोड़ा. उन्होंने कहा कि अंतरिक्ष आज हमारे जीवन शैली का अहम हिस्सा बन गया है. आज हमारे पास अलग-अलग उपग्रह हैं और ये देश के विकास में योगदान दे रहे हैं.

पीएम मोदी ने कहा, ”कुछ ही समय पूर्व भारत ने एक अभूतपूर्व सिद्धि हासिल की है. भारत ने अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में दर्ज करा दिया. दुनिया के तीन देश अमरीका, रूस, चीन को ही यह उपलब्धि हासिल थी. अब इस पंक्ति में भारत भी शामिल हो गया.
 नरेंद्र मोदी ने बताया अंतरिक्ष आज हमारे जीवन शैली का अहम हिस्सा बन गया है. आज हमारे पास अलग-अलग उपग्रह हैं और ये देश के विकास में योगदान दे रहे हैं. शक्ति मिशन को डीआरडीओ ने अंजाम दिया है और मोदी ने इसके लिए डीआरडीओ को बधाई दी है. वैज्ञानिकों का कहना है कि इस उपलब्धि से भारत को प्रतिरोधक क्षमता मिल गई है. अगर भारत का सेटलाइट को नष्ट करता है तो भारत भी ऐसा कर सकता है.
उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 11.23 मिनट पर ट्वीट कर कहा था कि आज सुबह वे 11.45 से 12 बजे के बीच देश वासियों को बड़ा संदेश देनेजा रहे है.   प्रधानमंत्री ने 11: 45 से 12 बजे के बीच संबोधन के लिए कहा था लेकिन ये वक़्त निकल गया है और पीएम के संबोधन में देरी हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट की बैठक करने के बाद यह संबोधन किया.प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर बताया था इस संदेश को टीवी, रेडियो और सोशल मीडिया के जरिए सुन सकते हैं. इसी वजह से अनुमानतः एक बड़ी संख्या में लोग टेलीविजन और मोबाइल से इस उपलब्धि के गवाह बने.लोकसभा चुनाव के आचार संहिता लगे होने के बीच प्रधानमंत्री क्या संदेश देंगे इसको लेकर लोग कयास लगा रहे थे. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह ही कैबिनेट की बड़ी बैठक बुलाई थी. इसमें सभी कैबिनेट मंत्रियों के अलावा सुरक्षा समिति के सदस्य भी शामिल थे.