बजट 2019 जानिए आपको क्या मिला औऱ गया..

सीतारमण

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े बजट के बाद शेयर बाजार धड़ाम

 एआई, थ्री डी प्रिंटिंग पर जोर किरायेदारों के लिए बड़ा ऐलान

 वित्त मंत्री लाल कपड़े में बजट की कॉपी लेकर निकलीं, सीईए ने कहा - यह भारतीय परंपरा

अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने की कोशिश की सरकार ने

बजट पर बोले पीएम मोदी- गरीब को बल मिलेगा, युवा को बेहतर कल

नई दिल्ली (khabargali )वैश्विक स्तर पर नरमी और मानसून की चिंता के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट शुक्रवार को पेश किया. सरकार ने अपने बजट में करदाताओं को राहत दी है. उसने अंतरिम बजट में पेश किए टैक्स स्लैबों में कोई बदलाव नहीं किया है. यानी पांच लाख रुपये तक की सालाना आय वालों को टैक्स से छूट जारी रहेगी. बजट भाषण में वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि अब इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए पैन कार्ड होना जरूरी नहीं है. उन्होंने कहा कि जिन लोगों के पास पैन कार्ड नहीं है, वे आधार कार्ड के जरिये रिटर्न भर सकते हैं. वहीं दूसरी ओर इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद को लेकर लिये गये कर्ज पर ब्याज भुगतान में 1.5 लाख रुपये की आयकर छूट दी जाएगी. गरीब, मध्यम वर्ग को दी गई छूट की भरपाई डीजल, पेट्रोल और सोने पर लगाए गए टैक्स और अमीरों पर बढ़े टैक्स से करने की कोशिश हुई है. वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए ऐलान किया कि दो करोड़ से पांच करोड़ रुपये और पांच करोड़ रुपये से अधिक की कर योग्य आय वाले करदाताओं पर अधिभार बढ़ाया गया. इस वृद्धि से उनकी प्रभावी कर दर क्रमश: तीन प्रतिशत और सात प्रतिशत बढ़ जायेगी.  केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को बजट पेश करते हुए कृषि से लेकर शिक्षा और आटोमोबाइल से लेकर एविएशन तक कई अहम ऐलान किए. लेकिन, एक तरह जहां वित्त मंत्री ने अमीरों को झटका दिया तो वहीं मीडिल क्लास को कुछ खास राहत नहीं मिली. सोने-चांदी और कीमती धातुओं पर टैक्स बढ़ाने का सरकार का यह प्रस्ताव ऐसे समय आया है, जब  घरेलू आभूषण उद्योग आयात शुल्क में कटौती की मांग कर रहा था. पूर्व में वाणिज्य मंत्रालय भी आयात शुल्क में कटौती की सिफारिश कर चुका है.

अब तक चली आ रही प्रथा को बदला

निर्मला ने  लाल ब्रीफकेस में नहीं इस बार मखमली लाल कपड़े में बजट लपेटकर लाईं वित्त मंत्री सीतारमण. वित्त मंत्री ने अभी तक चली आ रही प्रथा को पूरी तरह बदल दिया. इसे बजट नहीं बल्कि बहीखाता कहा गया. मध्यम वर्ग को राहत देने के लिए अमीरों को निशाने पर लिया गया है. अमीरों पर अतिरिक्त सरचार्ज लगाया गया है. 

पढ़े कहां मिली राहत और कहां बढ़ा बोझ

सस्ता

रक्षा उपकरण इलेक्ट्रिक वाहनों और इलेक्ट्रिक वाहन पार्ट्स धूपबत्ती, चश्मों के फ्रेम, बोतल कंटेनर ,होम लोन साबुन, शैंपू और हेयर आॅयल, टूथपेस्ट और वाशिंग पाउडर , ब्रीफकेस, यात्री बैग ,बर्तन, पास्ता, मियोनीज, नमकीन सूखा नारियल , सैनेटरी नैपकिन, ऊन और ऊनी धागे

महंगा

पेट्रोल-डीजल, सोना, चांदी के आभूषण, तंबाकू उत्पाद ,मार्बल, टाइल्स, सोना, चांदी के आभूषण आॅटो पार्ट्स, सीसीटीवी कैमरा, मेटल फिटिंग, आयातित किताबें

बजट के बाद शेयर बाजार गिरा

बजट के बाद बाजार ने बढ़त गंवा दी और कारोबार के अंत में दिन के निचले स्तरों पर बंद हुआ. सेंसेक्स 394.67 अंक की गिरावट के साथ 39513.39 के स्तर पर रहा. वहीं निफ्टी 135.60 अंक की कमजोरी के साथ 11,811.15 के स्तर पर बंद हुआ.

किरायेदारों के लिए बड़ा ऐलान

आदर्श किराया कानून बनाएगी मोदी सरकार मकान मालिक के अधिकारों का भी ख्याल रखा जाएगा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार रेंटल हाउसिंग के बारे में आदर्श किराया कानून बनाएगी. उन्होंने कहा कि रेंटल हाउसिंग से जुड़े मौजूदा कानून पुराने हैं और वे संपत्ति मालिक और किरायेदार की दिक्कतों को दूर करने में असमर्थ हैं.  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के मुताबिक मकान मालिक और किराएदार के वित्तीय रिश्तों और अधिकारों को नए सिरे से परिभाषित किया जाएगा. इससे मकान मालिकों के मनमर्जी से किराया बढ़ाने और रोक-टोक करने के साथ-साथ किराएदारों को आने वाली कई अन्य परेशानियों पर रोक लगाई जा सकेगी. नए किराया कानून को अंतिम रूप देकर राज्यों को भेजा जाएगा.

निर्मला का शायराना अंदाज

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण के दौरान एक शेर भी पढ़ा. निर्मला ने कहा-यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी ले कर चराग जलता है. ये शेर मशहूर शायर मंजूर हाशमी का है. 

5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था तक पहुंचने के मुख्य बिंदु - 

1- बुनियादी ढांचे में भारी निवेश 2- डिजिटल अर्थव्यवस्था 3- रोजगार निर्माण और लोगों की आशा, विश्वास और आकांक्षाएं.

बजट 2019 के ये बड़े फैसले

  • मोदी सरकार ने अमीरों पर टैक्स बढ़ाया , पेट्रोल-डीजल होगा महंगा, 1-1 रुपए सेस लगाने की घोषणा, सोना और कीमती रत्न और महंगे होंगे, सोना-चांदी पर कस्टम ड्यूटी 10 से बढ़ाकर 12.5 फीसदी हुआ टैक्स में मध्यम वर्ग को कोई बड़ी राहत नहीं  ,खाते से साल में निकाले 1 करोड़ तो 2 लाख रुपये का टीडीएस काटेगा ,बैंक 45 लाख के घर पर 1.5 लाख की अतिरिक्त छूट ,आयकर रिटर्न के लिए पैन की बाध्यता खत्म, आधार से भी भरा जा सकेगा टैक्स, दो से 5 करोड़ रुपये तक की आय वाले लोगों पर लगेगा 3 फीसदी का सरचार्ज ,5 करोड़ रुपये सालाना से अधिक आय वाले लोगों पर लगेगा 7 प्रतिशत अतिरिक्त सरचार्ज, होम लोन के ब्याज पर 3.5 लाख रुपए की छूट, 5 लाख रुपये तक की सालाना आय वाले लोगों को कोई टैक्स, स्लैब में बदलाव नहीं, निवेश पर बढ़ी छूट. महिलाओं, किसान, ग्रामीण भारत के लिए बड़े ऐलान ,59 मिनट में सभी दुकानदारों को लोन, छोटे कारोबारियों को पेंशन ,2022 तक सबके लिए घर का लक्ष्य, प्रधानमंत्री कर्मयोगी योजना का ऐलान ,पीएसयू की जमीनों पर सस्ती हाउसिंग योजना ,महिलाओं को जनधन खाते में ओवरड्राफ्ट की सुविधा, आदर्श किराया कानून भी बनाया जाएगा , बिजली के लिए वन नेशन, वन ग्रिड की बात ,महिलाओं के लिए नारी तू नारायणी का नारा ,2024 तक हर घर तक जल पहुंचाने का लक्ष्य, हर किसी को घर देने की योजना पर भी आगे बढ़ रही है सरकार, भारतीय पासपोर्ट वाले एनआरआई को मिलेगा आधार कार्ड , देश के अंदर जल मार्ग के साथ ही वन नेशन, वन ग्रिड की तैयारी, इसका ब्लूप्रिंट तैयार हो रहा, विमानन, मीडिया और बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश खोलने के प्रस्ताव पर विचार, तीन करोड़ दुकानदारों को पेंशन और बाहरी निवेशकों के लिए आसान केवाईसी का प्रस्ताव, 2 अक्टूबर, 2019 को भारत खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा ,विनिवेश के जरिए 1 लाख करोड़ रुपये जुटाए जाएंगे, जिसमें एयर इंडिया में भी विनिवेश किया जाएगा , लोन देने वाली कंपनियों को अब सीधा आरबीआई कंट्रोल करेगी, बुनियादी सुविधाओं में अगले पांच साल में 100 लाख करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य , इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर टैक्स 12 प्रतिशत से घटकर होगा 5 फीसदी ज्यादा