किसानों को दिवाली गिफ्ट, मोदी सरकार ने बढ़ाया गेहूं और दालों का न्यूनतम समर्थन मूल्य

modi aur kisan

 प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट कमिटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स (CCEA) की बैठक में फैसला

नई दिल्ली (khabargali ) केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने दिवाली से पहले किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई कैबिनेट कमिटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स (CCEA) की बैठक मेंं रबी सीजन 2019-20 (जुलाई-जून) की फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) बढ़ाने पर फैसला किया गया. एमएसपी वह दर होता है जिस पर सरकार किसानों से अनाज खरीदती है. यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ने से अब किसानों को बड़ा फायदा होगा। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 85 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है। वहीं दालों के एमएसपी में सरकार ने 325 रुपये का इजाफा किया है। 

गेहूं रबी सीजन की प्रमुख फसल है. अगले महीने से इसकी बुवाई शुरू हो जाएगी. अप्रैल से इसकी फसल बाजार में आ जाएगी. बता दें, कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (CACP) ने रबी फसलों के एमएसपी में बढ़ोतरी की सिफारिश की थी. सीएसीपी की ओर से रबी फसलों के एमएसपी में वृद्धि की सिफारिश किए जाने के बाद काफी समय से इसकी घोषणा का इंतजार किया जा रहा था.

अब इतना हुआ एमएसपी

गेहूं का समर्थन मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़कर 1,925 रुपये हो गया है। इसमें 85 रुपये का इजाफा हुआ है।
बार्ले के एमएसपी में 85 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा हुआ है। पहले यह 1,440 रुपये प्रति क्विंटल था, जो अब 1,525 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है।  वहीं मसूर के एमएसपी में भी 325 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा हुआ है, जिसके बाद यह 4,800 रुपये हो गया है। जबकि पहले यह 4,475 रुपये था। इसी प्रकार चने के एमएसपी में 255 रुपये की बढ़ोतरी की गई है और इसे 4,875 रुपये प्रति क्विंटलकर दिया गया है। पिछले साल यह 4,620 रुपये प्रति कुंतल थी। सरकार ने 2019-20 के लिए सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य 225 रुपये बढ़ाकर 4425 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है. वहीं सूरजमुखी का समर्थन मूल्य 270 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 5215 रुपये प्रति क्विंटल हो गया.

जाने क्या है रबी फसल ?

आपको बता दें कि अक्तूबर से मार्च के बीच होने वाली सभी फसलें को रबी फसल कहा जाता है। मार्च एवं अप्रैल माह में रबी फसलों की कटाई की जाती है। इस दौरान फसलों को सिंचाई के लिए कम पानी की आवश्यकता होती है। 

विधानसभा चुनाव के चलते एमएसपी की घोषणा में हुई देरी

सूत्र बता रहे हैं कि हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव को लेकर रबी फसलों के एमएसपी की घोषणा में देरी हुई है. दोनों राज्यों में विधानसभा चुनाव के साथ-साथ देश के विभिन्न राज्यों में कई सीटों पर उपचुनावों के लिए सोमवार को मतदान संपन्न हुआ