35वीं अखिल भारतीय चित्र, रेखांकन कला प्रदर्शनी

रायपुर (ख़बरगली)महाकोशल कला परिषद व्दारा 35 वीं अखिल भारतीय रेखांकन कला प्रदर्शनी चित्रकला, ड्राईंग प्रतियोगिता हुई। इस विडियो के जरिए आप देखेंगे अखिल भारतीय 100 कलाकारों की एक विषय पर आधारित 108 रचनाएँ जिसमें , व्यंगय चित्र , ग्राफिक ड्राईंग , जल, तैल .पेस्टल मुखौटा, वुडकट, लिथोप्रिंट, फोटोग्राफ, चारकोल से निर्मित रेखांकन रचनाएँ शामिल हैं। विडियों में बालाघाट से जी.एल. चौरागढे ,मुबंई से मनीष महानंद, अहमदाबाद से अजय तिवारी , विशाखापटनम से पी.ऊषा , कर्नाटक से पांडूरंगाराव वुडकट तथा कालीकट से हितेंद भाई शाह की रचनाएँ प्रदर्शित हैं। साथ ही मुजफ्रपुर से विमल विस्वास ,कोयम्बटूकर से रवि राज , बैंगलोर से विदुषिनी प्रसाद तथा दीपक विजय आर ,गोवा से सिद्धांत गायतोन्डे, नागपुर से समवेद शर्मा , उदयपुर से प्रमोद सोनी , कटक से बीजू पटनायक , बडौदा से दवे जलेंदु कुमार की रचना , दिल्ली से गोपाल नासकर ,व सिद्धांत शर्मा का रेखांकन , केरल के त्रिचुर से एस.बालासुव्रमणियम की रचना कलकत्ता से अंजन सेन तथा छत्तीसगढ , आदि प्रांतों के कलाकारों का रंग सौदर्य व अनुभव गजब का प्रभाव उत्पन्न करता प्रदर्शित की गई हैं। अन्य रचनाएं राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित धनंजय पंवार, सांभवी शर्मा , पिनाका नाग, स्वयं जैन, स्तुति अग्रवाल, शुभ अग्रवाल व मीनल पुजारीके आलावा छत्तीसगढ से श्याम निनोरिया , कल्याण प्रसाद शर्मा , अवतार सिंह भंगल , डॉ.प्रवीण शर्मा , विशाल कीर्ति जैन , उमेश चोपकर, असीम प्रताप हिरवानी , चंद्रकांत साहु, प्रीति लच्छवानी , अशोक अदनानी ,अमृता भट्टाचार्या ,नियति वत्स, रोमा लच्छवानी , तृणा विश्वास ,मीनल पुजारी , तरूण वंशपाल , प्रिनाका नाग , नीता परमार , मुत्युजंय , आदि कलाकारों की रचनाएँ प्रदर्शित हैं