बयान

नई दिल्ली (khabargali) एक वर्चुअल कार्यक्रम में शुक्रवार को पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी हामिद अंसारी ने कहा था कि "कोरोना महामारी संकट से पहले ही भारतीय समाज दो अन्य महामारियों- 'धार्मिक कट्टरता' और 'आक्रामक राष्ट्रवाद' का शिकार हो चुका था." इसी में जोड़ते हुए अंसारी ने यह भी कहा था कि "इन दोनों के मुक़ाबले 'देश प्रेम' ज़्यादा सकारात्मक अवधारणा है क्योंकि यह सैन्य और सांस्कृतिक रूप से रक्षात्मक है." लेकिन उनका यह बयान एक ख़ास वर्ग को ख़राब लगा है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा हो रही है.