धर्म

रायपुर (khabargali) मुकुट नगर रायपुर में चल रही श्रीमद्भागवत की दिव्य अमृतमयी कथा के सारगर्भित अंश को प्रस्तुत करते हुए डॉ इन्दुभवानन्द महाराज ने बताया कि निर्गुण, निराकार का सगुण साकार होना ही भगवान का अवतार है। परब्रह्म परमात्मा अपने भक्तों के कल्याण के लिए निर्गुण निराकार रहते हुए भी सगुण साकार हो जाते हैं और सगुण साकार होकर दिव्य दिव्य लीलाओं का सुख परमहंसवृत्ति में एकनिष्ठ जीवन मुक्त अमलात्मा प्रवृत्ति के अपने भक्तों को दिया करते हैं, देवकी वसुदेव तथा नंद यशोदा को वात्सल्य लीला का सुख देने के लिए भगवान अजन्मा होकर भी जन्म लेते हैं भगवान श्री कृष्ण ने व